विदेशी महिला ने किया था परमवीर चक्र को डिज़ाइन, इस महिला को भारत से था बेहद प्यार

Must Read

परमवीर चक्र को भारत का सर्वोच्च सैन्य अलंकरण माना जाता है। ये सम्मान युद्ध में बहादुरी के लिए दिया जाता है। अब तक भारत में 21 योद्धाओं को परमवीर चक्र से नवाजा जा चुका है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि परमवीर चक्र को किसने डिज़ाइन किया था? यदि नहीं तो आज अपने इस लेख में हम आपको परमवीर चक्र और उसे डिज़ाइन करने वाली महिला से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि परमवीर चक्र को एक विदेशी महिला ने डिज़ाइन किया था। ये महिला बेशक विदेशी थी लेकिन इन्हें भारत से बेहद प्रेम थे और इन्हें देखकर कोई नहीं कह सकता था कि ये विदेशी हैं। आइए जानते हैं इवा योन्ने लिंडा के बारे में।

स्विट्ज़रलैंड में हुआ था इवा का जन्म

आज हम आपको परमवीर चक्र को डिज़ाइन करने वाली विदेशी महिला इवा के बारे में बताने जा रह हैं। इवा का जन्म स्विट्ज़रलैंड में 1913 को हुआ था। इवा की माँ रूसी थी और पिता हंगरी थे। इवा के पिता एक लाइब्रेरियन के पद पर काम करते थे इसलिए इवा को शुरुआत से ही किताबें पढ़ने का बेहद शौक था। किताबों के जरिए ही इवा ने भारत को समझने का प्रयास किया था। इसी दौरान इवा को भारतीय संस्कृति और भारतीयों से प्यार हो गया।

कैप्टन विक्रम खानोलकर से की शादी

इसके बाद ही इवा भारत के कैप्टन विक्रम खानोलकर से प्यार कर बैठी और इवा ने विक्रम से शादी कर ली। शादी के बाद इवा पूरी तरह से बदल चुकी थी। इवा ने पूरी तरह से भारतीय संस्कृति को अपना लिया था। इवा के पहनावे और भाषा को देखकर कोई नहीं कह सकता था कि वे एक विदेशी हैं। शादी के बाद इवा का नाम बदलकर सावित्रीबाई खानोलकर हो गया। इसके बाद सावित्रीबाई ने पटना विश्वविद्यालय में दाखिला लिया और संस्कृत, वेद, उपनिषद के बारे में जाना। सावित्रीबाई उस्ताद उदय शंकर की शिष्य भी रह चुकी हैं।

किसने सौंपी परमवीर चक्र डिज़ाइन करने की ज़िम्मेदारी

पढ़ाई करने के बाद सावित्रीबाई ने सेंट्स ऑफ महाराष्ट्र और संस्कृत डिक्शनरी ऑफ नेम्स नाम की दो पुस्तकों को लिखा था। 1947 में भारतीय सेना भारत-पाक युद्ध में भारतीय योद्धाओं को सम्मानित करने के लिए पदक तैयार करने पर विचार कर रही थी। इसकी ज़िम्मेदारी मेजर हीरा लाल अट्टल को दी गई। लेकिन हीरा लाल जानते थे कि सावित्रीबाई को भारतीय संस्कृति का खूब ज्ञान है इसलिए हीरा लाल ने परमवीर चक्र डिज़ाइन करने की ज़िम्मेदारी सावित्रीबाई को सौंपी।

सबसे पहले किसे मिला परमवीर चक्र

इसके बाद सावित्रीबाई ने इस चक्र को डिज़ाइन किया। परमवीर चक्र को 3.5सेमी व्यास के कांस्य धातु पर तैयार किया गया है। जिस पर चारों तरफ वज्र के चिन्ह हैं। चक्र के बीचों बीच राष्ट्रीय चिन्ह को भी दर्शाया गया है। चक्र के दूसरी ओर कमल का चिन्ह है और वहीं हिन्दी व अंग्रेजी में “परमवीर चक्र” लिखा गया है। चक्र को 26 जनवरी 1950 यानि पहले गणतन्त्र दिवस पर प्रस्तुत किया गया। सबसे पहले परमवीर चक्र से सावित्रीबाई की बड़ी बेटी के बहनोई मेजर सोमनाथ को नवाजा गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

STAY CONNECTED

259,756FansLike
23,667FollowersFollow
5,345FollowersFollow
10,000SubscribersSubscribe

Latest News

वाह रे अमीरी! बिज़नसमैन ने अपने पालतू कुत्ते के लिए बुक कराया पूरा बिज़नस क्लास, यूजर्स हुए हैरान

अमीरी का तो क्या ही कहना? अमीरों के शौक सुन सुनकर आम आदमी तो हैरान ही हो जाता है।...

More Articles Like This

Citymail India