इनके हाथों की कारीगरी की विदेशों में भी दी जाती है मिशाल, विदेशों तक पहुंचाया अपना कारोबार

Must Read

 

NEW DELHI  : जीवन में सफलता हासिल करने के लिए मेहनत करना जरूरी है। बिना मेहनत के किसी भी मुकाम को हासिल नहीं किया जा सकता है। कुछ लोग मेहनत के साथ साथ अपनी किस्मत को भी आजमाते है। तभी जाकर वह सफलता की बुलंदियों पर पहुंचते है। ऐसे ही लोगों में उमंग श्रीधर शामिल है।

अंडर-30 अचीवर्स की लिस्ट में शामिल हुई उमंग

मध्य प्रदेश के भोपाल में रहने वाली उमंग श्रीधर को साल 2020 में प्रतिष्ठित बिजनेस मैगजीन फोब्र्स ने अंडर-30 अचीवर्स की लिस्ट में शामिल है। इतना ही नहीं उमंग का नाम भारत की टॉप-50 सोशल उद्यमियों की सूची भी शामिल किया गया। इस मुकाम तक पहुंचने के लिए उमंग ने रिस्क भी लिया।

मात्र 30 हजार रुपए शुरू की कंपनी

उमंग श्रीधर ने मात्र 30 हजार रुपए में कंपनी की शुरुआत की। देखते ही देखते उनका ब्रांड फेमस हो गया। उनका सालाना टर्नओवर 60 लाख रुपए है। इस कंपनी के जरिए श्रीधर ने न केवल अपने जीवन को नई दिशा दी बल्कि सैकड़ों लोगों को रोजगार भी दिया। उमंग ने स्टार्टअप शुरू करने से पहले कंपनी के नाम और कपड़ों को लेकर काफी खोजबीन की। इसके बाद उन्होंने कंपनी का खादीजी रखने का निर्णय लिया। यह शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है। खा औ दी जी।

कई राज्यों के कारीगरों को मिलता है रोजगार

उमंग की कंपनी चरखे को डिजिटल रूप में पेश करती है। जिसके जरिए हैंडलूम फैब्रिक और खादी का कपड़ा बेचा जाता है। इस कंपनी के जरिए मध्य प्रदेश के साथ महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल के बुनकरों को रोजगार मिलता है।

मूलरूप से मध्य प्रदेश के दमोह की रहने वाली उमंग
उमंग मूलरूप से मध्य प्रदेश के दमोह की रहने वाली है। लेकिन पढ़ाई के सिलसिले में भोपाल चली गई। उनकी कंपनी खादीजी विभिन्न कंपनियों को होलसेल में माल सप्लाई करती है। इनमें डिजाइनर, रिटेलर्स इंडस्ट्रीज शामिल है।

अपनी मां को देखकर करती थी कुछ बड़ा करने का सपना

उमंग की मां जनपद की अध्यक्ष रह चुकी है। ऐसे में उमंग हमेशा अपनी मां को देखकर बड़ा और बेहतरीन करने का सपना देखती थी। इसी सपने को पूरा करने के लिए उमंग ने 30 हजार रुपए में बिजनेस शुरू करने का रिस्क उठाया। भारत के टॉप ब्रांडस खादीजी का नाम शामिल होने के बावजूद उमंग अपने बिजनेस को और फैलाना चाहती है। वह आर्गेनिक कोटन के साथ साथ बांस और सोयाबीन से निकले वेस्ट मेटेरियल का इस्तेमाल करके इको फ्रैंडली फ्रैब्र्रिक तैयार करती है। जिसको लंदन और यूरोपिय देशो में बेचा जा सके।

हर नागरिक को करनी चाहिए शुरुआत

उमंग बताती है कि हर भारतीय को अपने रोजगार पर ध्यान देना चाहिए। वह कहती है कि हर भारतीय दो से तीन लोगों को रोजगार दे सकता है। हमे अपने जीवन में जोखिम उठाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

STAY CONNECTED

259,756FansLike
23,667FollowersFollow
5,345FollowersFollow
10,000SubscribersSubscribe

Latest News

वाह रे अमीरी! बिज़नसमैन ने अपने पालतू कुत्ते के लिए बुक कराया पूरा बिज़नस क्लास, यूजर्स हुए हैरान

अमीरी का तो क्या ही कहना? अमीरों के शौक सुन सुनकर आम आदमी तो हैरान ही हो जाता है।...

More Articles Like This

Citymail India