Monday, June 14, 2021

क्लासिकल सिंगिग में बनाना चाहती है पहचान, रेखा के सामने की गई परर्फोमेंस रहेगी हमेशा यादगार

Must Read

New delhi  : इंडियन आइडल में जाना और विजेता बनना संगीत से लगाव रखने वाले हर युवा का सपना होता है। लेकिन गिने चुने लोगों का ही ये सपना पूरा हो पाता है। शो से बाहर होने वाले कैंडिडेट्स काफी भावुक हो जाते है। 15 साल की अंजलि गायकवाड़ सात सप्ताह बाद शो से बाहर हो गई। शो से बाहर होने पर वह काफी भावुक भी नजर आई। उनका कहना था कि पापा चाहते थे कि मैं टॉप 5 में अपनी जगह बना सकूं। लेकिन यह नहीं हो सका।

anjali gaikwad
फोटो / INSTAGRAM

सारे पल समेटकर लौट रही हूं वापस

अंजलि बताती है कि मुझे शो के दौरान फैंस और जज का काफी प्यार मिला। वह कहती है कि शो जुलाई में खत्म होने वाला था। लेकिन अब इसका समय बढ़ा दिया गया। शो के दौरान मुझे काफी कुछ सीखने को मिला। जो शायद कही दूसरी जगह नहीं मिल सकता था। वह कहती है इंडियन आइडल में परफार्म करना मेरे लिए किसी सपने से कम नहीं था।

anjali gaikwad
फोटो / INSTAGRAM

टाप 5 में देखना चाहते थे पापा

अंजलि कहती है कि उनके पापा की इच्छा थी कि मैं टॉप 5 में अपनी जगह बना सकूं। लेकिन मैं पापा के सपनों को पूरा नहीं कर सकी। हालांकि मैने सोचा नहीं था कि मेरा सफर इतना लंबा होगा। सबसे बिछडऩा बिल्कुल मायूसी वाला पल है। हालांकि जज का निर्णय और वोटिंग के बाद ही मैं शो से बाहर हुई हूं। वह कहती है कि सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग को मैं बिल्कुल गंभीरता से नहीं लेती हंू।

anjali gaikwaad
फोटो / INSTAGRAM

क्लासिकल संगीत में पहचाना बनाने के सपना

अंजलि कहती है कि उनका सपना क्लासिकल संगीत में अपनी पहचान बनाना है। इसके साथ मैं फोक और वेस्टर्न जॉन भी सीखूंगी। मेरा सपना है पूरी दुनिया में क्लासिकल संगीत में अपनी पहचान बना सकूं। वह कहती है मैं एक वेर्सटाइल सिंगर बनाना चाहती हूं। इंडियन आइडल में अपना सबसे यादगार पल के बारे मेें वह कहती है कि वैसे तो कई लिविंग लेजेंड शो का हिस्सा बने। लेकिन सबसे यादगार पल रेखा जी के साथ था।

खुद को मानती हूं खुशनसीब

अंजलि कहती है कि वह खुद को खुशनसीब मानती है। जब मेरा परफॉरमेंस खत्म हुआ तो उन्होंने मेरी नजर उतारी थी। मेरे सिर पर हाथ रखा था। जिसका मुझे अभी तक विश्वास नहीं है। 15 साल की अंजलि अहमदनगर में रहती है। वह सबसे युवा प्रतिभागी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

बेकार कबाड़ से बना दिए छोटे वाहन, सुविधाओं में बड़ी गाडिय़ों को भी करते है फेल 

New delhi: आवश्यकता अविष्कार की जननी है। ऐसा हम बचपन से सुनते आ रहे है, लेकिन इसको कभी देख...

More Articles Like This

The Citymail - Hindi