Saturday, June 19, 2021

सुयश जाधव, जिसने हौसलों से बदल दी अपनी किस्मत, जीते 115 से अधिक मेडल

Must Read

नई दिल्ली : सुयश जाधव (suyash jadhav ) नाम शायद ही किसी ने सुना हो। लेकिन इस खिलाड़ी ने अपने बुलंद हौसलों ने अपनी किस्मत को बदलकर रख दिया। सुंयश ने अभी तक 115 मेडल स्वीमिंग में अपने नाम किए है।

महाराष्ट्र के सोलापुर में हुआ जन्म
सुयश जाधव का जन्म 28 नवंबर 1993 को महाराष्ट्र (maharashtra)के सोलापुर (solapur ) में हुआ। सुयंश के पिता भी नेशनल लेवल के तैराक (national level swimmer) थे। उनका सपना था कि उनका बेटा भी बड़ा होकर नेशनल लेवल का चैंपियन बने। हालांकि होनी को कुछ ओर ही मंजूर था।

 

suyash
अपने कोच के साथ सुयश

छह साल की उम्र में कट गए हाथ

सुयश बताते है कि जब वह छठी क्लास में थे तो उनको बिजली (power ) का झटका लग गया। इनको अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद इनके दोनो हाथ काटने पड़े। इसके बाद से पिता की आशा भी टूट गई। लेकिन सुयंश के मन में नेशनल प्रतियोगिता में भाग लेने का सपना दौड़ रहा था। जिसको उन्होंने पूरा किया।

suyash
तैराकी प्रतियोगिता में विजेता सुयश

हाथ कटने के बाद शुरू की प्रैटिक्स

करंट लगने के बाद दोनो हाथ काटने पड़े। सुयंश ने हाथ काटने के बाद प्रैक्टिस शुरू की। जिसके बाद वह धीरे धीरे तैराकी में बेहतर होने लगे। सुयश ने साल 2016 रियो ओलंपिक में भाग लिया। साल 2018 एशियाई प्रतियोगिता में भाग लिया। एशियाई प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुयंश को सम्मानित किया। अभी तक स्विमिंग में 115 से अधिक पदक जीत चुके है।

suyash
समुंद्र के किनारे घूमते हुए सुयश

साल 2020 में सरकार ने किया अर्जुन अवार्ड से सम्मानित
सुयश को सरकार ने 2020 में अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया है। सुयंश कहते है कि किसी भी पैरा खिलाड़ी को हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। क्योंकि हौसलो से बड़ा कुछ भी नहीं होता है। अगर आपमे हौसला है। तो आगे बढक़र किसी भी प्रतियोगिता को जीत सकते है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

दूल्हे ने दुल्हन को अपने हाथों से खिलाये गोलगप्पे, दुल्हन ने भी लिया गोलगप्पों का आनंद, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

गोलगप्पे की बात आती है तो अच्छे-अच्छों के मुंह में पानी आ जाता है। खासतौर पर महिलाओं को गोलगप्पे...

More Articles Like This

The Citymail - Hindi