Tuesday, June 22, 2021

कचरा निकालने का ऐसा तरीका, जिससे दुनिया हो गई आस्ट्रेलिया की दीवानी

Must Read

नई दिल्ली: दुनिया में प्रतिदिन कचरे की संख्या बढ़ती जा रही है। कचरे के निस्तारण किस तरह से किया जाए। इसको लेकर सभी परेशान है। ऐसे में आस्ट्रेलिया (australia) ने  समुंद्र (sea )से निकलने वाले कचरे को निस्तारित करने का ऐसा तरीका निकाला है। जिससे दुनिया भी आस्ट्रेलिया की दीवानी हो गई। आस्ट्रेलिया समुंद्र को साफ करने की कोशिश कर रहा है।

 

plastic
कचरे में निकले प्लास्टिक के बैग

कचरे की वजह से तेजी से बर्बाद हो रहे समुंद्र
कचरे (dust) की वजह से समुंद्र तेजी से बर्बाद हो रहे है। जिस हिसाब से समुंद्र में कचरा डाला जा रहा है उससे आने वाले समय में हर लहर के साथ कचरा ही साथ आएगा। आंकड़ों के अनुसार हर साल समुंद्र में 5.25 लाख प्लास्टिक (plastic) के छोटे छोटे टुकड़े डाले जाते है। जब टुकड़े मिल जाते है तो विशाल रूप ले लेते है।

 sea
जाला लगाने के दौरान आया कचरा

प्लास्टिक के साथ सिगरेट के टुकड़े भी बिगाड़ रहे सेहत
समुंद्र को बर्बाद करने में प्लास्टिक में प्लास्टिक (plastic )के साथ सिगरेट के टुकड़े भी हमारी सेहत, हवा और समुंद्र तीनों का बर्बाद कर रही है। दुनिया में हर साल 5.6 खरब इस्तेमाल होने वाले सिगरेट के बचे टुकड़े हमारी पृथ्वी समुंद्र और नदियों में जाकर मिलते है। सबसे बड़ी परेशानी यह है कि इसको नष्ट होने में कई दशक लग जाते है।

sea
नालियों से निकला हुआ गंदा कचरा

छोटे से शहर से शुरू हुई समुुंद्र को बचाने की पहल
आस्ट्रेलिया के 39 हजार जनसंख्या वाला क्किनाना शहर (kinna city )आज दुनिया भर में फेमस है। क्कीनाना शहर में दो बड़ी नालिया है। जिसके माध्यम से शहर का अधिकांश पानी समुंद्र में जाकर गिरता है। जिससे काफी नुकसान हो रहा था। सबसे अधिक परेशानी बारिश से होती है। बारिश के समय पानी सडक़ों से कचरे से उठाकर नालियों में और वहां से सीधे पाइप के माध्यम से समुंद्र में पहुंचा देती थी।

नालियों पर जाला लगाकर किया जाएगा समाधान
समुंद्र में बढ़ते कचरे को देखते हुए प्रशासन ने सोचा कि क्यों न समुंद्र से जुडऩे वाली दोनों नालियो पर बड़ा जाला लगा दिया जाए जो कचरे को समुंद्र में जाने से रोक सके। उन्होंने मार्च 2018 में दोनों बड़ी नालियों पर जाला लगाया। तीन दिन में जो परिणाम सामने आए वह हैरानी जनक थे। 370 किलो कचरा समुंद्र में जाने से बच गया।

कचरे में मिले थे प्लास्टिक के टुकड़े
कचरे में अधिकांश खाने के पैकेटस, प्लास्टिक (plastic) के बोतल, प्लास्टिक के छोटे-छोटे टुकड़़े अन्य चीजे भी शामिल थी। यह देखकर सभी हैरान थे कि इतने छोटे से शहर में तीन महीने में अधिक कचरा पैदा करता है। ऐसे में उन्होंने अपने सफल तरीके को बताए। इसे देखकर सभी हैरान थे कि इतना छोटा-सा शहर सिर्फ तीन महीने में ही इतना अधिक कचरा पैदा करता है। ऐसे में उन्होनें जब अपने तरीके को सफल होते हुए देखा तो सभी को बताने के लिए सोशल मीडिया पर शेयर किया। उन्होंने बताया कि क्किनाना शहर को नालियो पर जाला लगाने और कचरे को रिसाईकिल में महज 20 हजार रुपए खर्च करने पड़े।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

ITBP के जवानों ने 18000 फीट की ऊंचाई पर किया योग, कड़ाके की ठंड में लद्दाख में मनाया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

आज पूरे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। देश-विदेश में लोग अपने-अपने घरों से ही योग...

More Articles Like This

The Citymail - Hindi