Monday, June 14, 2021

गर्मियों में राहत देता है ऐसी हेलमेट, लंबा सफर अब हुआ आसान

Must Read

नई दिल्ली : हेलमेट (HELMET ) लगाना वाहन चालक की सुरक्षा और सडक़ परिवहन की सुरक्षा के लिए अत्यंत ही आवश्यक है। लेकिन हेलमेट लगाने की वजह से चालकों को अनेक मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। जैसे कि गर्मियों में हेलमेट लगाकर लंबा सफर तय करना बहुत ही मुश्किल हो जाता है।

2018 में बने हैलमेट ने किया दुविधा को खत्म

2018 में बने पहले ऐसी हेलमेट ने इस दुविधा को खत्म कर दिया है। अब किसी भी टू व्हीलर (two wheeler) वाहन के हेलमेट में इस ऐसी को फिट किया जा सकता है और लंबे सफर का आनंद उठाया जा सकता है। ऐसी हेलमेट पूरे हेलमेट के अंदर तापमान को नियंत्रित रखता है और चालक को गर्मी से बचाता है।

ac helmet
सुंदर राजन द्वारा बनाया गया हैलमेट फोटो – screenshot/ youtube history tv 18

सुंदर राजन ने की हैलमेट की शुरुआत

इसी हेलमेट बनाने की शुरुआत साल 2017 में सुंदर राजन (sunder rajan )ने की। सुंदर आईआईटी मद्रास से पास आउट है। वह हमेशा से सोसाइटी के लिए कुछ करना चाहते थे। हालांकि वह लगातार अपने एक्सपेरिमेंट करते रहते थे। इसी दौरान उनके दिमाग में बाइकर्स के दिमाग को ठंडा रखने के लिए एक डिवाइस (device) बनाने का आईडिया आया और उन्होंने इस पर काम करना शुरू कर दिया।

ac helmet
एसी हैलमेट पहनकर बाइक चलाता राइडर फोटो – screenshot/ youtube history tv 18

एक्टिव बाइकर्स को मिलेगी हैलमेट से  निजात

जब उन्होंने डिवाइस बना लिया तो उनके सामने सबसे बड़ा सवाल यह था इसको फिट कहां किया जाए। हालांकि जब उन्हें पता चला कि देश में करीब 200 करोड़ एक्टिव बाइकर्स (active bikers) है। तब उन्होंने बाइक चलाने वाले को गर्मी से निजात दिलाने के लिए इस डिवाइस को हेलमेट से जोडऩे का काम शुरू किया। सुंदर और उनकी टीम ने इसके लिए प्रोटोटाइप बनाना शुरू किया करीब 50 प्रोटोटाइप बनाने के बाद 2018 में पहला एसी हेलमेट लॉन्च किया गया।

पुराने हेलमेट में भी हो जाता है फिट यह डिवाइस

आपको बता दें कि हेलमेट में इस का मजा लेने के लिए नया हमें खरीदने की कोई जरूरत नहीं है। पुराने हेलमेट में भी यह डिवाइस आसानी से फिट हो जाता है, और साधारण हेलमेट ऐसी हेलमेट बन जाता है। इस डिवाइस को हेलमेट के सामने नीचे वाले हिस्से में लगाया जाता है। यह डिवाइस बैटरी कैसे चलता है, जिसे एक बार चार्ज करने पर इस डिवाइस की बैटरी लगभग 10 घंटे तक काम करती है।

डिवाइस में लगाया गया छोटा सा फैन

डिवाइस के सामने एक छोटा सा फैन लगाया होता है, जो धूल मिट्टी को सोख लेता है । जिससे बाइक चलाने वाले तक यह गंदगी नहीं पहुंच पाती है और उन्हें सडक़ पर आराम से बाइक चलाने में मदद मिलती है। आज सुंदर का यह हेलमेट विदेशों तक पहुंच चुका है। इसके साथ ही थाईलैंड, वियतनाम मलेशिया और गल्फ जैसे देशों में भी इसकी मांग है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

बेकार कबाड़ से बना दिए छोटे वाहन, सुविधाओं में बड़ी गाडिय़ों को भी करते है फेल 

New delhi: आवश्यकता अविष्कार की जननी है। ऐसा हम बचपन से सुनते आ रहे है, लेकिन इसको कभी देख...

More Articles Like This

The Citymail - Hindi