Sunday, June 20, 2021

परेशानियां आई सोचा तैयारी छोड़ कोई काम धंधा शुरू कर दूं, बिहार पब्लिक सर्विस कमिशन में हासिल की सफलता

Must Read

NEW DELHI : कई बार इंसान आर्थिक परेशनियों के सामने घुटने टेक देता है। वह अपनी दिशा बदल देता है। लेकिन कई इंसान ऐसे होते है जो मुश्किलों से न घबराकर अपनी मंजिल की ओर बढ़ते हुए चलते है। अंत में उनको सफलता भी हासिल हो जाती है। बिहार बेगूसराय के रहने वाले बीड़ी मजदूर के बेटे ने भी कुछ ऐसी ही सफलता हासिल की।

बीड़ी मजदूर के बेटे ने हासिल की 922 वी रैंक

बेगूसराय के तेमूंहा गांव के वार्ड-10 में रहने वाले मोहम्मद हबीब बीड़ी कारखाने में काम करते है। उनका 26 साल का बेटा मो जमशेद ने पहले प्रयास में बीपीएससी परीक्षा में क्वालीफाई कर लिया। इससे पूरे गांव में खुशी का माहौल है। गांव वाले भी जमशेद की सफलता पर फूले नहीं समा रहे है। जमशेद के पिता ने बताया कि वह बीडी मजदरी करके परिवार का पेट पालते है। उन्होंने परिवार चलाने के लिए बड़ी मेहनत की है। ईमानदारी से काम किया है। उसी का नतीजा है कि उनका बेटा परीक्षा में सफल हो गया है।

आर्थिक चुनौतियों के बावजूद नहीं मानी मार

जमदेश कहते है कि उनके सामने खराब आर्थिक परिस्थिति थी। परिवार को खाने के लिए भी परेशानी का सामना करना पड़ता था। कई बार ऐसा लगता था कि तैयारी छोडक़र कोई छोटा मोटा काम कर लू। लेकिन मेेरे मन में एक ही टारगेट था कि कुछ भी हो जाए अच्छी शिक्षा हासिल करनी है। जमशेद बताते है कि उन्होंने बचपन में किसी बड़े स्कूल में पढ़ाई नहीं की बल्कि गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ाई की। वह बताते है कि 2011 में मैट्रिक पास की। साल 2016 में बीएस और 2018 में मैथ से एमएससी पास किए।

गांव में रहकर दिनरात की पढ़ाई

जमदेश बताते हे कि उनके पास गांव से बाहर जाकर पढ़ाई करने के पैसे नहीं थे। परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण कोचिंग भी नहीं ले सकते थे। ऐसे में उन्होंने गांव में रहकर दिन रात पढ़ाई की। अंत में बिहार पब्लिक सिविल सर्विस परीक्षा में सफलता हासिल कर ली। वह अब राजस्व अधिकारी बनेगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

More Articles Like This

The Citymail - Hindi