Wednesday, June 23, 2021

अब खाकी में नजर आएगी बिहार बिजली विभाग की ये अधिकारी, महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों पर अंकुश लगाना होगा लक्ष्य

Must Read

NEW DELHI  : आपको सफलता की सीढिय़ों पर चढऩे के लिए निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए। तभी जाकर आप शिखर पर पहुंच सकते है। कुछ ऐसा ही प्रयास बिहार की बेटी रजिया सुल्तान ने किया। रजिया सुल्तान अभी बिहार बिजली विभाग में कार्यकारी अभियंता है। वह जल्द ही खाकी में नजर आएगी।

बिहार की पहली मुस्लिम डीएसपी

खाकी पहनने के साथ साथ रजिया बिहार की पहली मुस्लिम डीएसपी बन गई है। बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा में 40 प्रतिभागियों का चयन किया गया है। जिसने में 4 मुस्लिम शामिल है। इनमें से एक रजिया सुल्तान भी है।

्रइंजीनियर से तय किया डीएसपी तक का सफर

27 साल की रजिया बिहार के गोपालगंज जिले की हथुआ की निवासी है। उनकी शुरुआती पढ़ाई लिखाई झारखंड के बोकारो में हुई। उनके पिता मोहम्मद असलम अंसारी बोकारो स्टील प्लांट में स्टेनोग्राफर का काम करते थे। साल 2016 में रजिया के पिता का देहांत हो गया। रजिया की मां अभी भी बोकारों में ही है।

छह भाई बहनों में सबसे छोटी है रजिया

छह भाई बहनों में रजिया सबसे छोटी है। उनकी पांच बहनों की शादी हो चुकी है। रजिया के मुताबिक साल 2010 में बोकारो से दसवीं और बारहवीं पास करने के बाद वह जोधपुर चली गई। जहां से उन्होंने इलेक्ट्रोनिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई की।

महिलाओं को न्याय दिलाना होगा लक्ष्य

रजिया बताती है कि उनका काम सबसे पहले महिलाओं को न्याय दिलाना होगा। वह कहती है बचपन से ही उनका मन लोक सेवा आयोग में जाना था। ताकि प्रदेश और अपने देश की सेवा कर सकूं। साल 2018 में रजिया ने बीपीएसपी की परीक्षा दी। वहीं 2019 में उन्होंने मेंस परीक्षा दी। इसके बाद इंटरव्यू में उन्होंने अपने झंडे गाड़े। जिससे उनका चयन डीएसपी के तौर पर हो गया।

हिजाब और बुर्के को लेकर होना चाहिए खुद का निर्णय 

रजिया कहती है कि हिजाब और बुर्के  को लेकर महिलाओं का खुद का निर्णय होना चाहिए। हमे उन पर ही छोड़ देना चाहिए कि वह हिजाब पहनना चाहती है या नहीं। हिजाब और बुर्का पहनना कोई गलत नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

अजब लिव इन गजब शादी, 40 साल एक दूसरे के साथ रहने के साथ 65 की उम्र में रचाई शादी

New delhi : भारत में शादी सात जन्मों का बंधन माना जाता है। सात फेरे लगवाए जाते है। सात...

More Articles Like This

The Citymail - Hindi