पढ़ाई छूटने के कारण आया था सुसाइड का ख्याल, बिज़नस में भी हुआ घाटा लेकिन नहीं मानी हार आज टैटू आर्ट से कमाते हैं लाखों में

Must Read

कहते हैं कि मजबूत इरादों और बुलंद हौंसलों से हर मुकाम हासिल किया जा सकता है। सफलता पाने के लिए जितनी जरूरत कड़ी मेहनत की होती है उतनी ही जरूरत धैर्य और निरंतर प्रयास की भी होती है। आज हम आपको एक ऐसी ही खबर बताने जा रहे हैं जिसमें एक शख्स के सफलता के मार्ग में लाख मुश्किलें आई लेकिन इस शख्स ने कभी हार नहीं मानी और सफलता के मुकाम को हासिल करने के लिए निरंतर प्रयास करता रहा। आज यह शख्स एक बेहतरीन टैटू आर्टिस्ट बन चुका है और इस काम से साल के लाखों रूपये कमा रहा है। आइए जानते हैं अहमदाबाद के मशहूर टैटू आर्टिस्ट जिग्नेश फुमकिया की कहानी।

परिवार का खर्च निकालने के लिए कारखाने में करते थे काम

आज हम आपको अहमदाबाद के टैटू आर्टिस्ट जिग्नेश के बारे में बताने जा रहे हैं। एक समय पर जिग्नेश के परिवार की आर्थिक स्थिति बिल्कुल भी अच्छी नहीं थी। घर का गुजर बसर करने के लिए जिग्नेश ट्यूशन पढ़ाया करते थे। साथ ही जब गर्मियों की छुट्टी होती थी तब भी जिग्नेश कोई न कोई काम करते रहते थे। इसके अलावा जिग्नेश एक एंब्रोयडरी के कारखाने में पोलिश करने का काम भी करते थे। यही से जिग्नेश को टैटू आर्टिस्ट बनने का ख्याल आया।

Jignesh
फोटो-इंस्टाग्राम/JigneshFumakiya

पढ़ाई में मिली असफलता तो आया सुसाइड का ख्याल

दरअसल इन सभी कठिनाइयों के साथ जिग्नेश ने अपनी पढ़ाई भी जारी रखी। 12वीं के बाद घर वालों के कहने पर जिग्नेश ने डिप्लोमा में दाखिला ले लिया लेकिन उसमें जिग्नेश डिटेन हो गए। यह समय जिग्नेश के लिए बहुत मुश्किल था उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि अब वह क्या करें। जिसके बाद जिग्नेश के मन में सुसाइड का ख्याल आने लगा। लेकिन जिग्नेश ने ऐसा नहीं किया और मुश्किलों का सामना कर सफलता को हासिल करने का ठाना। लेकिन उनकी रुचि टैटू आर्टिस्ट बनने में ही थी जिसके लिए जिग्नेश ने कंपनी की अच्छी ख़ासी नौकरी को छोड़ दिया।

Tatoo Artist
फोटो-इंस्टाग्राम/JigneshFumakiya

बिज़नस में हुआ घाटा लेकिन नहीं मानी हार

नौकरी छोड़ने के बाद जिग्नेश वापस कारखाने में काम करने लगे। लेकिन कारखाने के मालिक ने उनका यह सपना पूरा करने में जिग्नेश की आर्थिक मदद की। जिसके बाद इंटरनेट वगैराह से टैटू करना सीखा और पैसे जमा होने के बाद अपना एक स्टूडियो खोला लेकिन यहाँ से उन्हें सफलता नहीं मिल पाई और उन्हें स्टूडियो बंद करना पड़ा। लेकिन जिग्नेश ने हार नहीं मानी और कड़ी मेहनत के बाद एक बार फिर “कबीरा टैटू एंड पियर्सिंग-द स्टूडियो ऑफ आर्ट” के नाम से अपना स्टूडियो शुरू किया।

Creativity of Jignesh
फोटो-इंस्टाग्राम/JigneshFumakiya

अब कमाते हैं लाखों में और बच्चों को भी सिखाते है आर्ट

उसके बाद धीरे-धीरे जिग्नेश को सफलता मिलती चली गई। आज जिग्नेश टैटू, लेजर टैटू रिमुवल और बॉडी पियर्सिंग का काम करते हैं। इसी के साथ जिग्नेश ड्रेस डिज़ाइनिंग का काम भी करते हैं। आज जिग्नेश इस काम से सालाना 7 लाख रूपये तक कमा लेते हैं। इसी के साथ वह अनेकों बच्चों को भी इस आर्ट की ट्रेनिंग दे रहे हैं। जिग्नेश को उनके हुनर के लिए 2014 में भारत सरकार की ओर से हस्तकला का लाइसेंस भी मिल चुका है। उन्हें पढ़ाई के दौरान आर्ट के लिए जीटीयू सम्मान भी मिल चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

बिना कोचिंग के पूरे आत्मविश्वास के साथ पहले ही प्रयास में पास की यूपीएससी की परीक्षा, जानिए सफलता का राज

यूपीएससी परीक्षा को हर साल कई परीक्षार्थी देते हैं कुछ परीक्षार्थियों को सफलता पाने में लंबा समय लग जाता...

More Articles Like This

Citymail India