रतन टाटा ने किया जंग का ऐलान, कहा देशवासियों की जान बचाना है ज्यादा जरूरी

देश पर जब भी संकट आया है तो टाटा समूह ने हमेशा से मदद के लिए अपने हाथ बढ़ाए हैं। रतन टाटा के नेतृत्व में एक बार फिर से टाटा समूह ने इस बीमारी के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है।

Must Read

मुंबई। देश जब भी संकट में आया है तो टाटा समूह (Tata Group) ने हमेशा मदद के हाथ आगे बढ़ाए हैं। अपने इसी मंत्र को आगे ले जाते हुए इस बार फिर से टाटा समूह ने देश को संकट से बाहर लाने के लिए युद्वस्तर पर अभियान छेड़ दिया है। टाटा समूह के अंतरिम चेयरमैन रतन टाटा (Ratan Tata) का केवल एक ही मंत्र है कि इंसान की जान के सामने कोई भी साम्राज्य बड़ा नहीं है। इसलिए श्री टाटा ने अपने समूह की सभी कंपनियों को लोगों की जान बचाने के लिए कहा है।

 लड़ाई की है पूरी तैयारी

माना जा रहा है कि टाटा समूह ने इस बीमारी से लड़ाई के लिए 2000 करोड़ रुपए खर्च करने का बजट निर्धारित कर दिया है। हालांकि पिछले साल भी जब देश पर यह संकट आया था, तब भी टाटा समूह (Tata Group) ने सबसे पहले और सबसे अधिक फंड दिया था। तब रतन टाटा ने प्रधानमंत्री राहत कोष (PM Fund) में 1500 करोड़ रुपए भेंट किए थे। इसके बाद देश के कई बड़े उद्यमी भी इस जंग मे साथ आए थे। मगर रतन टाटा ने जिस तरह से सहयोग का कदम बढ़ाया, उसकी देश भर में जमकर प्रशंसा हुई थी।

Ratan Tata
कैप्शन: रतन टाटा का फाईल फोटो: इंस्टाग्राम

रतन टाटा ने किया जंग का ऐलान

रतन टाटा की अगुवाई वाली कंपनी ने एक बार फिर से इस बीमारी के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है। इसके लिए टाटा समूूह देश के कई राज्यों में बड़े स्तर पर ऑक्सीजन की सप्लाई में जुट गया है। इसके लिए विदेशों से लिक्विड मेडीकल ऑक्सीजन के टैंकर एयरलिफ्ट करवाए जा रहे हैं। इसके अलावा टाटा समूह की सभी कंपनियों को सख्ती से कहा गया है कि देशवासियों की जान पहले है और बाकि काम बाद में। इसलिए सभी कंपनी प्रमुखों को साफ तौर पर कहा गया है कि किसी भी मरीज की जान उनकी कोशिशों के अभाव में नहीं जानी चाहिए।

टाटा और चंद्रशेखरन ने की बैठक

हाल ही में टाटा समूह के अतंरित चेयरमैन रतन टाटा और चेयरमैन एन चंद्रशेखरन (Tata Chairman N  Chandrasekaran) ने सभी कंपनी अध्यक्षों के साथ बैठक की और सिर्फ एक ही मंत्र दिया कि इस बीमारी से लडऩे में उनकी तरफ से कोई कमी नहीं रहनी चाहिए। इसके लिए देश भर के अस्पतालों में जहां भी जरूरत हो, बैड से लेकर ऑक्सीजन और वेंटीलेटर पहुंचाने चाहिए। उन्होंने कहा है कि जिस भी राज्य में जो भी जरूरत महसूस हो, वहां सभी सुविधाएं हर हाल में पहुंचनी चाहिएं।

वैक्सीन बनाने को भी तैयार है टाटा

इसके साथ साथ टाटा समूह ने वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों से भी बात शुरू कर दी है। टाटा इन कंपनियों के साथ पार्टनरशिप के आधार पर वैक्सीन बनाकर लोगों तक पहुंचाना चाहता है। वह वैक्सीन के निर्माण में बहुत अधिक तेजी लाने के पक्ष में हैं। ताकि समय रहते लोगों तक वैक्सीन पहुंचाई जा सके। बता दें कि टाटा समूह पिछले एक साल से ही इस बीमारी के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। बीते 10 अप्रैल से देश के कई शहरों में लिक्विड मेडीकल ऑक्सीजन की सप्लाई भी निरंतर तौर पर की जा रही है। मगर अब टाटा समूह ने इस लड़ाई में अपनी पूरी ताकत झोंकने का निर्णय ले लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

STAY CONNECTED

259,756FansLike
23,667FollowersFollow
5,345FollowersFollow
10,000SubscribersSubscribe

Latest News

स्कूल टीचर के अतरंगी डांस ने जीता यूजर्स का दिल, करोड़ों यूजर्स को पसंद आ रहा ये वीडियो

सोशल मीडिया पर आए दिन कोई न कोई मजेदार वीडियो वायरल होती ही रहती है। कभी कभी तो वीडियोज़...

More Articles Like This

Citymail India