यूपी पुलिस में हवलदार ने कड़ी मेहनत की परीक्षा, कड़ी मेहनत से बनवाए विशाल सिंह

Must Read

New delhi : वह भी आपके साथ काम करने के लिए मजबूत है और निश्चित रूप से आपकी मदद करेगा। ठीक ठीक ठीक पूरी तरह से पूर्ण रूप से सुंदर पूर्ण क्षमता से सुंदर योग्यता से परीक्षा पास जैसा ठीक वैसा ही ठीक वैसा ही जैसा ठीक वैसा ही कार्य करता है। उत्तर प्रदेश में जीपुर के कैर्री में भर्ती होने के लिए अधिकारी भर्ती होंगे। पुलिस में भर्ती होने के बाद भी चार्ज होने के मामले में चार्ज होने के बाद भी चार्ज होता है। 

कुछ बड़ा काम करना चाहते थे विशाल सिंह

पुलिस में उनकी पहचान एक हवलदार के रूप में थी। पंरतु भीतर ही भीतर उनके मन में एक घुटन सी रहती थी कि वह कुछ ऐसा करें, जिससे उनकी पहचान बदले और देश की सेवा के लिए कुछ करने का अवसर मिले। यह सोचकर विशाल ने अपनी मेहनत और जज्बे को साकार करने के लिए यूपीएससी करने की ठान ली। हालांकि वह आईएएस अफसर बनना चाहते थे, इसके लिए उन्होंने कोशिश भी बहुत की। मगर उससे पहले उन्होंने संघ लोकसेवा आयोग की ओर से आयोजित सेंट्रल आम्र्ड फोर्स की परीक्षा दी। जिसमें वह पास भी हो गए और अफसर बनने में सफल रहे।

एनडीए की परीक्षा में फेल हो गए थे

विशाल सिंह का कहना है कि वह इंडियन आर्मी में भर्ती होना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने एनडीए की परीक्षा दी, मगर फेल हो गए। इससे उनके हौंसले और हिम्मत में कोई कमी नहीं आई। पहले उन्हें यूपी पुलिस में भर्ती होने का अवसर मिला तो उन्होंने यह नौकरी ज्वाइंन कर ली। इस नौकरी में रहते हुए विशाल ने बिना छुटटी लिए यूपीएससी के लिए अपनी तैयारी शुरू कर दी। विशाल डयूटी से आने के बाद हर रोज करीब दो घंटे तक पढ़ाई करते थे। वह हर रोज न्यूज पेपर पढक़र अपनी बौद्धिक क्षमता को बढ़ाने में लगे रहते। इससे उन्हें देश दुनिया के बारे में बहुत से जानकारियां हासिल हुई, जिसका लाभ उन्हें यूपीएससी की परीक्षा में मिला। इस तरह से यूपी पुलिस में हवलदार के पद पर रहकर विशाल कुमार सिंह ने अफसर बनने का रास्ता तय कर लिया। आज वह देश के लाखों लोगों के लिए प्रेरणा बन गए हैं।

पॉजीटिव सोच की होती है जरूरत

विशाल सिंह का कहना है कि उन्होंने अपनी अथक मेहनत से साल 2018 में यह परीक्षा पास की है। उनके अनुसार कोई भी परीक्षा इतनी कठिन नहीं होती, जितना हम सोचते हैं। केवल अपने विचारों को सही दिशा देने की जरूरत होती है। पॉजीटिव सोच के साथ ही आगे बढऩे में आसानी होती है। उन्होंने भी इस सोच के साथ आगे बढऩे का हौंसला दिखाया और सफलता की कहानी लिखने में सफल हुए हैं। इसलिए सभी लोगों को किसी भी मंजिल पर पहुंचने के लिए मेहनत और साकारात्मक सोच रखना जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

STAY CONNECTED

259,756FansLike
23,667FollowersFollow
5,345FollowersFollow
10,000SubscribersSubscribe

Latest News

बायजू रवीन्द्रन: गाँव का ये लड़का कभी पढ़ाता था ट्यूशन, आज है करोड़ों की कंपनी का CEO

चाहो तो क्या कुछ नहीं किया जा सकता। यदि बुलंद हौंसलों के साथ आगे बढ़ा जाए तो सफलता जरूर...

More Articles Like This

Citymail India