यूपीएससी परीक्षा से आधा घंटा पहले हुए दुघर्टना का शिकार, इंटरव्यू से पहले हो गए बीमार, फिर भी नहीं मानी हार, हासिल किया मुकाम 

Must Read

New delhi : कई बार भगवान आपकी इतनी कड़ी परीक्षा लेता है कि आप भी मन ही मन सोचने लगते है कि शायद भगवान ने हमे धरती पर केवल दुख सहने के लिए भेजा है। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है जो केवल भगवान द्वारा दी जा रही कठिन परेशानियों से जूझते हुए आगे निकल जाते है। ऐसा ही कुछ देश के सबसे युवा आईपीएस सफीन हसन ने किया।

Safin hasan
सफिन हसन फोटो /instagram

साल 2018 में पास की सिविल सेवा परीक्षा 

सफीन हसन ने यूपीएससी परीक्षा साल 2018 में पास की। उन्होंने 570वी रैंक हासिल की। अपनी ट्रेनिंग पूरी करने के बाद साल 2019 में 23 दिसंबर को सफीन की पहली तैनाती गुजरात के जामनगर के बतौर सहायक पुलिस अधीक्षक के रूप में हुई। गुजरात के कनोदर गांव में साल 1995 मेंं जन्मे सफीन हसन ने कम उम्र में आईपीएस बनकर इतिहास रच दिया। हैरानी की बात यह है कि जब सफीन आईपीएस अधिकारी बने तो उनकी उम्र केवल 22 साल थी।

बचपन में ही तय कर लिया था बनेंगे आईपीएस, मां बाप ने किए त्याग 

सफीन हसन ने बचपन में ही अपने लक्ष्य को निर्धारित कर लिया था। स्कूली पढ़ाई के दौरान उन्होंने देखा कि डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर को लोग सम्मान दे रहे है। एक आईएएस अधिकारी का यह रुतबा देखने के बाद हसन काफी प्रभावित हुए। हसन ने भी निश्चय कर लिया था कि वह भी सिविल सेवा में ही जाएंगे। सफीन का जन्म गरीब परिवार में हुआ था। उनके पिता घर चलाने के लिए हीरे की खदान में काम करते थे। वहीं मा दूसरों के घर में खाना बनाने का काम करती थी।

Safin hasan
सफिन हसन फोटो /instagram

परीक्षा से पहले करना पड़ा कई परेशानियों का सामना 

सिविल सेवा परीक्षाके मेंस के चौथे पेपर से अधिक आधा घंटा पहले हसन दुघर्टना का शिकार हो गए। बाइक फिसलने के कारण उनको कई जगह चोटे आई। ऐसे में कोई भी सोच नहीं सकता था कि वह दोबारा पेपर देने जा पाएंगे। लेकिन हसन ने हिम्मत नहीं हारी। दुघर्टना के दौरान वह पेनकिलर खाकर परीक्षा देने के लिए परीक्षा सेंटर पहुंच गए। बाद में जब उनका सीटी स्कै न किया गया तो पता चला कि घुटने का लिंगामेंट टूट गया है। डाक्टरों ने हसन को ऑपरेशन करवाने की सलाह दी। लेकिन हसन ने कहा कि वह इंटरव्यू के बाद ही यह करवाएंगे। वही इंटरव्यू से पहले भी हसन बीमार हो गए थे।

माता पिता को देते है अपनी सफलता का श्रेय 

हसन अपनी सफलता का श्रेय माता पिता का देते है। वह कहते है कि माता पिता और गुुरु के बिना आप कुछ भी हासिल नहीं कर सकते है। आपको बढऩे के जीवन में हमेशा इनकी जरूरत पड़ती है। वही हसन कहते है कि किसी को भी किस्मत के भरोसे नहीं बैठना चाहिए। हर परिस्थिति में आगे बढ़ते रहना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

बिना कोचिंग के पूरे आत्मविश्वास के साथ पहले ही प्रयास में पास की यूपीएससी की परीक्षा, जानिए सफलता का राज

यूपीएससी परीक्षा को हर साल कई परीक्षार्थी देते हैं कुछ परीक्षार्थियों को सफलता पाने में लंबा समय लग जाता...

More Articles Like This

Citymail India